बंथरा पुलिस नाबालिग से बलात्‍कार को छेडखानी में बदल पीडि़त को रही धमका

0
185
पुलिस को पीडितों

लखनऊ। सरकार पुलिस को पीडितों के साथ मित्रतापूर्ण व्‍यवहार करने के लिए समय-समय पर ताकीद करती रहती है पर सूबे की पुलिस है कि सुधरने का नाम नहीं ले रही है। राजधानी लखनऊ की पुलिस तो पीडि़तों की तहरीर ही बदलवा देती है। पीडि़त की परेशानी से उसे कोई सरोकर नहीं है।

ताजा मामला है लखनऊ के बन्थरा थाने का जहां पर बीते सोमवार को नाबालिग किशोरी के साथ हुई दुराचार की घटना को बन्थरा पुलिस ने महज छेड़छाड़ करने की धाराओं में दर्ज कर अपना पल्ला झाड़ लिया। लेकिन किशोरी के गरीब परिवार को जब न्याय न मिला तो किशोरी व उसका परिवार क्षेत्राधिकारी सरोजनी नगर लाल प्रताप सिंह से न्याय की गुहार लगाने उनके कार्यालय पर पहुंचे तो उन्होने फोन पर थानाध्यक्ष बन्थरा को दुराचार की धाराओं में मुकदमा दर्ज कर कार्यवाही करने के लिए कहा जिसके बाद आज भी मुकदमा दर्ज नही किया।

वहीं पीडित किशोरी के पिता का कहना है कि स्थानीय पुलिस उन्हें आज भी यह कहते हुए डरा धमका रही है कि ज्यादा नेतागिरी करोगे तो तुम्हारे लिए ठीक नहीं होगा। इस सम्बंध में जब संवाददाता ने क्षेत्राधिकारी सरोजनी नगर लाल प्रताप सिंह से बात करना चाही तो कई बार फोन लगाने के बाद भी उन्होंने फोन नही उठाया। वहीं आरोपी आज भी पुलिस की पकड़ से बाहर हैं व लगातार पीडि़त को समझौते के लिए डरा-धमका रहे हैं। पीडित परिवार का कहना है कि क्षेत्रिय दरोगा लगातार पीडित को डरा धमका कर उसे इस मामले में शांत बैठने के लिए दबाव डाल रहे हैं।