प्रेग्नेंसी के दौरान महिलायें कर रहीं हैं ये खूनी उपाय, जानकर चौंक जायेंगे आप

0
22
प्रेग्नेंसी

किसी भी औरत के लिए मां बनने से बड़ा सुख कोई दूसरा नहीं होता, लेकिन जब महिलायें प्रेग्नेंसी के दौरान ही खतरनाक तरीके अपनानें लगें तो चौंक जायेंगे आप.

ये भी पढ़ें :-

बता दें की, ऑस्ट्रेलिया में कम उम्र की प्रेग्नेंट लड़कियां लेबर पेन से बचने के लिए स्मोकिंग का सहारा ले रही हैं। उनका मानना है कि पेट में बच्चा होने के दौरान सिगरेट पीने से बेबी का साइज छोटा हो जाता है।

ये भी पढ़ें :-जबरन धर्मांतरण करा रहे अमेरिकियों को हिंदु युवावाहिनी ने खदेड़ा

ऐसे में बेबी छोटा और हल्का होने पर बहुत कम लेबर पेन के साथ डिलिवरी हो जाती है। ऑस्ट्रेलिया की एक रिसर्च में ये बात सामने आई है। 10 साल की रिसर्च के बाद हुआ ये खुलासा…

ये भी पढ़ें :-सीएम योगी के इस फैसले ने बढ़ाई मायावती की बेचैनी, अब होगा पर्दाफाश

– रिसर्च के मुताबिक, लड़कियों को ये अच्छे से पता होता है कि सिगरेट पीने से पेट में पल रहे बच्चे को अस्थमा हो सकता है। बावजूद इसके वो प्रेग्नेंसी के दौरान लगातार स्मोक करती हैं।

ये भी पढ़ें :पहली बार शारीरिक संबंध बनाने के बाद कैसा लगता है, देखें वीडियो

– लड़कियों का मानना है कि उन्हें अस्थमा का खतरा मंजूर है लेकिन वो हेल्दी बेबी की डिलिवरी के दौरान होने वाले हैवी लेबर पेन को नहीं झेल सकती हैं।

– बता दें, ऑस्ट्रेलिया में स्मोकिंग से जुड़ा ये खुलासा 10 साल मानव विज्ञान पर स्टडी के बाद जारी हुई रिपोर्ट में हुआ है। इस रिपोर्ट को 2016 में ऑस्ट्रेलियन नेशनल यूनिवर्सिटी (ANU) ने जारी किया था।

ये भी पढ़ें :-इस तरह की स्त्रियों के साथ भूलकर भी न करें सम्भोग, नहीं तो होगा…

– रिसर्च में साफ हुआ है कि लड़कियों को बेबी का वेट कम करने का ये आइडिया सिगरेट के पैकेट में लिखी वॉर्निंग से मिला था। बता दें, ऑस्ट्रेलिया में सिगरेट के पैकेट पर ये वॉर्निंग लिखी होती है- ‘प्रेग्नेंसी के दौरान स्मोकिंग बेबी का वजन कम कर सकता है।’

– इतना हीं नहीं, इस वॉर्निंग को पढ़कर अलर्ट होने की बजाय कई लड़कियों ने इससे सीख लेते हुए लाइफ की पहली सिगरेट ही बेबी का वजन कम करने के लिए पी।

– वहीं, जो लड़कियां पहले से स्मोकिंग करती थीं उन्होंने डेली सिगरेट की संख्या बढ़ा दी।

आगे की 3 स्लाइड्स पर पढें, प्रेग्नेंसी के दौरान स्मोकिंग करने से जुड़े फैक्ट्स…

टीनेजर्स में अधिकतर लड़कियां 16 या 17 साल की

– स्टडी का पार्ट रहे ANU के एसोसिएट प्रोफेसर सिमॉन डेनिस के मुताबिक, ‘स्मोक करके बेबी का वजन कम करने वाली टीनेजर्स में से अधिकतर लड़कियों की उम्र 16 या 17 साल है। हालांकि, इससे ज्यादा उम्र की कई लड़कियां भी ऐसा कर रही हैं।’

पूरी दुनिया में लड़कियों के कम उम्र में प्रेग्नेंट होने की दर तेजी से बढ़ रही है। इससे मां को जहां हाई ब्लड प्रेशर की समस्या होती है, वहीं बच्चे समय से पहले पैदा हो जाते हैं।

ये भी पढ़ें :-भारत के इस चमत्‍कारी मंदिर में आते ही रोंगटे खडे हो जायेंगे, यहां प्रेत आत्‍माओं…

– स्मोकिंग को लेकर की गई एक अन्य स्टडी के मुताबिक, ऑस्ट्रेलिया में 25 साल से कम उम्र की 37% मां प्रेग्नेंसी के दौरान सिगरेट पीती हैं। वहीं, 30 साल से ज्यादा उम्र वाली महिलाओं में ये आंकड़ा 10% है।

loading...