मिस्र में चारों तरफ फैला मौत का मंजर, राष्‍ट्रपति ने सेना को दी पूरी छूट

0
174
मिस्र के उत्तरी

नई दिल्ली। मिस्र के उत्तरी प्रांत सिनाई में एक मस्जिद पर बिती रात हुए एक बड़े बम धमाके में 235 लोगों की मौत हो गई वहीं सैकड़ों लोग घायल हो गए। रिपोर्ट के मुताबिक  यहां आतंकियों ने पहले बम से हमला किया और फिर जब लोग घायल हो गए तो उन पर अंदर जाकर गोलियों की बैछार कर दी। प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि शुक्रवार को नमाज के दौरान जब लोग बाहर निकलने लगे तभी आतंकियो ने हमला कर दिया।

य‍ह भी पढें:- एक गोभी के फूल ने मां बेटी को पहुंचाया मौत के…

यह मस्जिद अल-अरिश के क़रीब अल-रावदा के पास स्थित है। यह हमला शुक्रवार को हुआ और खबर के मुताबिक इस सबसे भीषण आतंकी हमले में 235 लोग के मारे जाने और 120 के घायल हुए हैं। इस हमले के बाद मिस्र के राष्ट्रपति ने आंतकियों के खिलाफ बड़े आपरेशन का ऐलान करते हुए कहा है कि इस हमले का बदला लिया जाएगा। मिस्र की सेना ने आतंकियों के खिलाफ जवाबी कार्रवाई शुरू कर दी है।

य‍ह भी पढें:- आधार कार्ड को लेकर सरकार ने उठाया बड़ा कदम, जरूर पढें…

इस घटन पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए मिस्र सेना के प्रवक्ता तमील अल रफई ने कहा है कि वायुसेना ने आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन शुरू करते हुए उत्तरी सिनाई और इससे लगे हुए इलाकों में बमबारी कर रही है और वहां छिपे आतंकियों को निशाना बनाया जा रहा है।

य‍ह भी पढें:- कुख्‍यात आतंकी हाफिज सईद की रिहाई पर लखीमपुर में देशद्रोहियों ने…

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप मिस्र में मस्जिद में हुए इस आतंकी हमले की निंदा करते हुए कहा है कि हम सभी मिस्र के साथ है। यह हमला मिस्र के सिनाई प्रायद्वीप में एक मस्जिद में हुआ, जिसमें 235 लोगों की मौत हो गई। भारती की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने मिस्र के सामेह हसन शुक्री से बात भी की है।

य‍ह भी पढें:- कमरे में जले मिले देवर-भाभी के शव, पुलिस जांच में जुटी

सुषमा ने रात ट्वीट कर कहा है – ‘मिस्र के विदेश मंत्री से बात की है और हमारे प्रधानमंत्री ने आतंकी हमले पर गहरा दुख व्‍यहालांकि अभी तक किसी गुट ने इस हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है। फिर भी इस हमले का शक ISIS पर जा रहा है। दरअसल, जिस मस्जिद पर हमला हुआ है वह एक सूफी मस्जिद थी। स्थानीय लोगों का मानना है कि इस हमले में ISIS का हाथ है। गौरतलब है कि ISIS मस्जिदों को अपने खिलाफ मानता है और वो ही ऐसी जगह पर हमला कर सकता है।

फिल्हाल स्थानीय पुलिस और सरकारी एजेंसियां इस हमले की जांच कर रही हैं। लेकिन मिस्र की सेना ने आतंकियों के खिलाफ जंग का ऐलान कर दिया है।