भारत-न्‍यूजीलैंड के मैच पर फिक्सिंग के बादल, हुआ बड़ा फैसला

0
248
भारत और न्यूजीलैंड

नई दिल्‍ली। क्रिकेट प्रेमियों के लिए एक बुरी खबर है। भारत और न्यूजीलैंड के बीच दूसरे वनडे मैच के ऊपर संकट के बादल गहरा गए हैं। हो सकता है यह मैच रद्द हो जाए। यह मैच पुणे में होने वाला था लेकिन नया विवाद उत्पन्न होने के बाद यह मैच अब होना लगभग मुश्किल हो गया है। इसकी मुख्य वजह है पुणे की बीच पुणे में पिच तैयार करने वाले एक स्थानीय क्यूरेटर पांडुरंग सालगांवकर ने एक TV चैनल के स्टिंग में पिच के तमाम राज खोल दिए।

यह भी पढें:- हो गया पक्का, विराट-अनुष्‍का जल्‍द ही दे सकते हैं बडी खुशखबरी

इंडिया टुडे के स्टिंग में दावा किया गया है कि सालगांवकर पैसे लेकर पिच का मिजाज बदलने को भी तैयार हो गए। इस मामले में खुलासे के बाद बीसीसीआई के संयुक्त सचिव अमिताभ चौधरी ने कहा कि यह मैच रद्द भी किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि इस मामले में लापरवाही बरतने वाले को बक्सा नहीं जाएगा। मैच के भविष्य पर आईसीसी की ओर से नियुक्त मैच रेफरी फैसला करेंगे।

यह भी पढें:- Video : रावण राज्य में जाति परिवार क्षेत्र के नाम पर भेदभाव था :…

फिलहाल क्यूरेटर सालगांवकर को सस्पेंड कर दिया गया है। स्टिंग के जरिए पता चला है कि इस मैच में पहली पारी में 337 से 340 रनों का स्कोर बनेगा और दूसरी पारी में खेलने वाली टीम इसे आसानी से चेज कर लेगी या पिच का मिजाज पास आने पर क्या करना चाहिए और मैच का नतीजा यानी लगभग सब कुछ पहले से तय हो गया है। स्टिंग के दौरान रिर्पोटर को पिच दिखाने को भी तैयार हो गये जबकि आईसीसी के नियमों के मुताबिक मैच से पहले कप्तान और कोच से पहले कोई पिच पर नहीं जा सकता है।

यह भी पढें:- हिजबुल सरगना सैयद सलाहुद्दीन के बेटे को NIA ने किया गिरफ्तार

आपको बता दें कि सालगांवकर अपने समय के तेज गेंदबाज रह चुके हैं। ऐसा पहली बार नहीं है कि सालगांवकर निशाने पर आए हों। इससे पहले, भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच इसी साल की शुरुआत में पुणे में हुए टेस्ट मैच में आइसीसी ने इसे काफी खराब पिच कहा था। भारतीय कप्तान विराट कोहली और ऑस्ट्रेलियाई टीम की ओर से भी इस पिच को लेकर शिकायत की गई थी। तब ऑस्ट्रेलिया ने भारत को 105 और 107 रनों पर आउट कर 333 रनों की बड़ी जीत हासिल की थी। यह मैच तीन दिन से पहले खत्म हो गया था। तब भी पांडुरंग ही पिच क्यूरेटर थे और इस मैच को लंदन से देखने भारत आए तत्कालीन बीसीसीआइ सचिव अजय शिर्के ने कहा था कि पिच फिक्सिंग की जांच सीबीआइ को करनी चाहिए।