मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सरकारी कर्मचारियों के लिए दिये ख़ास निर्देश, हो जायेंगे होश ठिकाने

0
68
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के शासन की बागडोर हाथ में लेते ही नीचे से ऊपर तक के सरकारी अमले में बदलाव की बयार चल पड़ी है.

ये भी पढ़ें :-नीति आयोग की बैठक में पीएम मोदी ने किया एलान, कुछ ख़ास है विकास के सपनो का प्लान

बता दें की,सभी सरकारी कर्मचारियों के समय पर कार्यालय पहुंचने पर खास जोर दे रहे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विकास खण्ड स्तर के कर्मियों के दफ्तर में आने-जाने के समय पर नजर रखने के लिए बायोमेट्रिक प्रणाली के इस्तेमाल के निर्देश दिए हैं.

ये भी पढ़ें :-इस बीजेपी नेता ने ‘भारत माता की जय’ और ‘जय श्रीराम’ को लेकर दिया बड़ा बयान, मच गया तूफ़ान 

ये भी पढ़ें :-अजान वाले बयान पर सोनू निगम ने पोस्ट किया अजीबो-गरीब वीडियो  

मुख्यमंत्री ने यह निर्देश कल रात लखनऊ में ग्राम्य विकास विभाग के प्रस्तुतिकरण के दौरान देते हुए कहा कि हर ग्राम पंचायत स्तर पर एक बोर्ड लगाया जाए, जिसमें महत्वपूर्ण सूचनाएं तथा ग्राम प्रधान, ग्राम सचिव तथा रोजगार सेवक के मोबाइल नम्बर तथा कराये जा रहे कार्यों की सूची और योजनाओं का विवरण उपलब्ध रहे.

ये भी पढ़ें :-सीएम योगी के लिए आया केंद्र से नया फरमान, अब नहीं हो पायेगा …

उन्होंने कहा कि विकास खण्ड स्तर तक कर्मियों की बॉयोमेट्रिक अटेन्डेंस सुनिश्चित की जाए. मुख्यमंत्री ने समग्र ग्राम विकास विभाग के ग्राम्य विकास विभाग में विलय किये जाने के निर्देश भी दिए.

ये भी पढ़ें :-खुलासा : बाबर ने अपने मर्द आशिक की याद में बनवाई थी बाबरी मस्जिद

उन्होंने प्रधानमंत्री आवास योजना-ग्रामीण, महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारण्टी योजना (मनरेगा), प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना, राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन तथा ग्रामीण पेयजल कार्यक्रम की समीक्षा की.

ये भी पढ़ें :-अजब-गजब : यहां महिलाएं पराये पुरुषों से संबंध बनाने के लिए देती हैं पैसे

योगी ने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना-ग्रामीण के लक्ष्यों की पूर्ति की जाए. सभी लक्षित 5.73 लाख परिवारों का पंजीकरण, फोटो अपलोडिंग, आवासों की स्वीकृति का कार्य शीघ्रता से किया जाए.

ये भी पढ़ें :-अपनाएँ ज्योतिष के ये ब्रम्हास्त्र उपाय, जिंदगी के हर युद्ध में होगी विजय

छूटे हुए ऐसे पात्र परिवार जिनका नाम वर्तमान सूची में नहीं है, उन्हें सम्मिलित करने के लिये केन्द्र सरकार से अनुरोध किया जाए.

ये भी पढ़ें :-इस क्षेत्र की महिलायें करती हैं माहवारी के समय ये अजीब काम, जानकर हो जायेंगे हैरान

उन्होंने मनरेगा से सम्बन्धित कार्यों में पारदर्शिता लाये जाने के निर्देश देते हुए कहा कि क्रियाशील श्रमिकों को ‘आधार बेस्ड पेमेंट सिस्टम’ से जोड़ने की कार्रवाई की जाए.

ये भी पढ़ें :इस अश्‍लील वीडियो ने मचाया धमाल देखने वाले हो गये दंग

मुख्यमंत्री ने राष्ट्रीय ग्रामीण पेयजल कार्यक्रम और विश्व बैंक सहायतित ‘नीर निर्मल परियोजना’ के साथ-साथ राज्य ग्रामीण पेयजल योजना की भी जानकारी प्राप्त की. उन्होंने कहा कि बुन्देलखण्ड के साथ-साथ प्रदेश के अन्य हिस्सों में पाइप पेयजल योजनाओं को पूरा कराया जाए. बुन्देलखण्ड में पेयजल समस्या के समाधान के लिए हैण्डपम्पों की स्थापना, रिबोरिंग एवं पाइप पेयजल की योजनाओं के जीर्णोद्घार के कार्य भी पूरे कराये जाएं.

ये भी पढ़ें :बड़ा रहस्‍य : भगवान कृष्‍ण ने नहीं, इन्‍होंने बचाई थी द्रौपदी की लाज  

जल निगम की कार्य प्रणाली पर नाराजगी जाहिर करते हुए मुख्यमंत्री ने कार्य संस्कृति में सुधार लाये जाने के निर्देश दिये. उन्होंने कहा कि जल निगम की जवाबदेही सुनिश्चित की जाए और कार्यों का सम्पादन समयबद्घ ढंग से किया जाए.

योगी ने कहा कि राज्य ग्रामीण पेयजल योजना के तहत प्रदेश के 31 जिलों में 160 पाइप पेयजल योजनाएं पूरी कर जलापूर्ति सुनिश्चित की जाए. इण्डिया मार्क-2 हैण्डपम्पों की स्थापना में मानकों का पालन हो. विधायकों तथा विधान परिषद सदस्यों के कोटे के अवशेष नये एवं रिबोर हैण्डपम्पों का कार्य विधायकों की संस्तुति पर पूरा कराया जाए.