सरोजनी नगर CHC में महिला डाक्टर ने किया महिला पर हमला

0
94

बंथरा। गैर हाजिरी लगने से नाराज सरोजनीनगर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र की एक महिला चिकित्सक ने सोमवार को दूसरी महिला चिकित्सक पर अस्पताल में ही हमला बोल दिया। अचानक हुए हमले से बेसुध होकर महिला चिकित्सक जमीन पर गिर पड़ी। मौके पर मौजूद स्टाफ ने आनन-फानन  पीड़िता चिकित्सक को अस्पताल के ही इमरजेन्सी वार्ड में भर्ती कराया। जहां इलाज के बाद तबियत ठीक होने पर शाम करीब 4 बजे उसे घर भेज दिया गया।

पीड़िता ने आरोपी महिला चिकित्सक के खिलाफ सरोजनीनगर थाने पर तहरीर दी है। उधर सीएचसी प्रभारी अधीक्षक डा विवेक प्रताप सिंह का कहना है कि उन्हें लिखित रूप से कोई शिकायत नही मिली है। शिकायत मिलने पर जांच कराकर उचित कार्रवाई की जाएगी। सरोजनीनगर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में तैनात आयुष महिला चिकित्सा अधिकारी डा ममता राजपूत के मुताबिक सोमवार सुबह करीब 8 बजे जब वह अपनी ड्यूटी पर अस्पताल स्थित प्रसव कक्ष पहुंची तो वहां मौजूद स्त्रीरोग विशेषज्ञ डा पूर्णिमा धूसिया ने उनके ऊपर गैर हाजिरी लगवाने का आरोप लगाकर हमला कर दिया।

अचानक हुए हमले से डा राजपूत फर्श पर गिर पड़ी और बेहोश हो गई। पीड़िता डा राजपूत का कहना है कि बीते रविवार को रोस्टर के हिसाब से डा0 धूसिया की अस्पताल में सुबह 8 से दोपहर 2 बजे तक इमरजेन्सी ड्यूटी लगी थी, लेकिन वह अपनी ड्यूटी से गैर हाजिर रही। इसी के चलते अधीक्षक ने उपस्थिति रजिस्टर में उन्हे गैर हाजिर कर दिया था। पीड़िता डा0 राजपूत का आरोप है कि डा0 धूसिया ने इसके लिए उन्हे जिम्मेदार मानकर उनपर हमला कर दिया।

स्त्रीरोग विशेषज्ञ डा पूर्णिमा धूसिया के चिकित्सक से उलझने का यह पहला मामला नही है। बल्कि इससे पहले भी वह सीएचसी में ही तैनात महिला चिकित्सक डा नम्रता बंसल से विवाद कर चुकी है। सोमवार को अस्पताल में मौजूद डा बंसल का कहना था कि नवम्बर 2015 में डा धूसिया ने उन्हे भी मानसिक रूप से इतना प्रताड़ित किया कि उनके दिमाग की नस फट गई थी और करीब 6 माह के उपचार के बाद वह ठीक हुई। डा बंसल का आरोप है कि उस समय उन्होने इसकी शिकायत उच्चाधिकारियो से भी की, लेकिन डा धूसिया की उंची पहुंच के कारण उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नही हुई। मौके पर मौजूद कई आशा बहुओं ने भी डा धूसिया द्वारा मरीजो व स्टाफ के साथ गलत व्यवहार करने का आरोप लगाया।

loading...