उत्‍तर कोरिया की सेना में महिलाओं की स्थिति पर बड़ा खुलासा, रोज होता है रेप

0
221
उत्तर कोरिया की महिला

उत्‍तर कोरिया। अपनी सेना की ताकत के दम पर अमेरिका को धमकियां देने वाले उत्तर कोरिया की महिला सैनिकों की हालत बद से भी बदतर है। सेना में काम कर रही महिलाओं के साथ बलात्कार की वारदात बेहद आम हैं। इतना ही नहीं आर्मी ड्यूटी के दौरान मुश्किल परिस्थितियों से निपटने की वजह से कई महिला कर्मियों को तो पीरियड्स होने तक बंद हो जाते हैं और अगर पीरियड्स हों भी तो ये महिला सैनिक सैनिटरी पैड्स को दोबारा इस्तेमाल करने के लिए मजबूर होती हैं। सालों तक उत्तर कोरिया की सेना में रहते हुए इस नरक को झेलने वाली ली सो योन ने अनुभव साझा किए हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक ली सो योन चीन के रास्ते दक्षिण कोरिया पहुंचीं। ली ने बताया कि वह 10 साल उत्तर कोरिया की सेना में रहीं। 1992 में वह 17 साल की थीं और 2001 में उन्होंने सेना छोड़ दी। ली ने बताया कि वह रेप होने से बच गईं लेकिन उनकी कई साथियों के साथ रेप हुआ।

यह भी पढें:- संभोग वशीकरण : कामदेव के इस मंत्र से मनचाही औरत को…

ली ने बताया कि कंपनी कमांडर ड्यूटी खत्म होने के बाद भी अपने कमरे में रहता था और इस दौरान अपने अधीन काम कर रहीं महिला सैनिकों का रेप करता था। यह एक-दो दिन नहीं बल्कि रोज होता था’ अब 41 साल की हो चुकीं ली ने बताया कि वह अपनी सेना की नौकरी से काफी प्यार करती थीं लेकिन कड़ी ट्रेनिंग और खाने की कमी की वजह से महिलाओं के शरीर पर बहुत असर पड़ता था।

यह भी पढें:- इन आसनो से करेंगे बिस्‍तर पर वो काम तो जल्‍द मिलेगा…

ली ने बीबीसी को बताया कि तनावपूर्ण माहौल और कुपोषण की वजह से महिलाओं को पीरियड्स बंद हो जाते थे। महिला सैनिकों को पीरियड्स न होना अच्छा लगता था क्योंकि अगर पीरियड्स होते तो स्थिति और भी बुरी होती।

यह भी पढें:- सैंया फौज मा मोहल्‍ला… पत्‍नी ने बनाये 60 लोगों से संबंध

ली ने स्वेच्छा से किशोरावस्था में ही आर्मी जॉइन की थी, लेकिन किम जोंग-उन के शासनकाल में उत्तर कोरियाई महिलाओं को कम से कम 7 साल सेना में सेवा देना जरूरी है। ली ने साल 2008 में उत्तर कोरिया से भागने की सोची और 2 बार भागने की कोशिश की। पहली बार उन्हें पकड़ लिया गया और एक साल के लिए जेल भेजा गया लेकिन दूसरी बार वह सफलतापूर्वक नदी में तैरते हुए भागने में कामयाब रहीं।